लाईफ में सफल होने के लिए क्या करें | WHAT TO DO FOR GETTING SUCCESS IN LIFE

लाईफ में सफल होने के लिये बहुत से कारक मिलकर काम करते हैं। आपके संस्कार, आपकी संगति, किशोरावस्था में आप के दोस्त कैसे थे और आपकी पारिवारिक पृष्ठभूमि भी बहुत हद तक सफलता में मददगार होती है।

लाईफ में सफल होने के लिए क्या करें | WHAT TO DO FOR GETTING SUCCESS IN LIFE

आपके संस्कार, आपकी संगति, आपकी शिक्षा, आपका नज़रीया, आपकी आदतें, आपका जज्बा, लाईफ में सफल होने के लिये बहुत से कारक मिलकर काम करते हैं। 

किशोरावस्था  में  आप  के  दोस्त  कौन और  थे  और  आपकी  पारिवारिक पृष्ठभूमि  भी  बहुत हद         तक सफलता में मददगार होती  है। लेकिन ज़रूरी नही हैं की यह सब हों तभी आप सफल होंगे।  आप जब चाहें  तब अपनी आदतों में सुधार कर और कड़ी मेहनत कर सफल हो सकते हैं।

 

यह एक सार्वभौमिक सत्य है कि प्रत्येक व्यक्ति की कुछ सीमाएँ होती हैं और वह उन सीमाओं से परे जाने के लिए लगातार प्रयास करता है।

 

आइए जानते हैं वो पन्द्रह नियम जो जीवन में सफलता दिलायें:

लाईफ में सफल होने के 15 टिप्स | FIFTEEN TIPS FOR SUCCESSFUL LIFE

खुद को चुनौती दें:

आप बेहतर बनाना चाहते हैं तो ख़ुद को चुनौती दें। क्योंकि   बेहतर के लिए बदलाव करना हमेशा आसान नहीं होता हैलेकिन यह महत्वपूर्ण और प्रयास करने के लायक होता है की आप बदलाव करने के लिए स्वयं की ही चुनौती को स्वीकार करें।

 

कुछ चीजें, कुछ आदतें बदलनी होंगी आपको अपने सुविधा क्षेत्र से बाहर आना होगा। स्वयं से लड़ना होगा। सफलता हमेशा ही बलिदान माँगती है और बलिदान किसका? बलिदान अपने आलसी होने का बलिदान अपनी सुविधाओं से बाहर आकर परिश्रम करने का।

आत्म-विश्वास पैदा करें:

आपको सच्चाई को स्वीकार कर अपने अंदर आत्मविश्वास जगाना होगा। मैं आपको बता दूँ इस दुनिया में असम्भव कुछ भी नही है। कुछ भी नही का मतलब कुछ भी नही।अपने सपनों और लक्ष्यों को प्राप्त करने में पहला कदम यह स्वीकार करना है कि आप एक इंसान हैं, कि आप सर्वगुण सम्पन्न नहीं हैं , कोई भी नही होता और आप अकेले सब कुछ नहीं कर सकते।

 

हमेशा वास्तविक रूप से सोचें, हवा में ना उड़े , सिर्फ़ बैठकर कल्पनाओं में ही ना डूबे रहें, खुद पर इतना दबाव भी न डालें कि चलना मुश्किल हो जाए, अपने आप पर विश्वास करें कि आप अपनी आवश्यकताओं के अनुसार काम कर सकते हैं, लेकिन असफलता से नही डरना है।अपनी गलतियों को स्वीकार करें, लक्ष्य निर्धारित करें और यात्रा पर निकल पड़ें। सारी जमीं सारा आसमाँ आपके लिए पलके बिछाए बैठा है । एक बार आत्मविश्वास के साथ चल कर तो देखें।

जितना सम्भव हो जीवन को सरल बनाओ:

आपकी दिनचर्या में आपका ध्यान रखने वाली हजारों चीजें हैं, जैसे कि अपने बच्चों के कमरे को बार-बार सजाना, घर और दफ्तर का काम करना, काम के लिए समय निकालना, लोगों या रिश्तेदारों से मिलना, बच्चों के स्कूल के काम में मदद करना। करने के लिए ऐसे ही अन्य बहुत कुछ है।एक बात का ध्यान रखें, आप इनमें से कोई भी कार्य तब तक नहीं कर सकते जब तक आपके पास जीवन, संबंधों और वातावरण को सरल बनाने का स्पष्ट विचार न हो, क्योंकि तब जिम्मेदारियां बोझ नही लगेंगी।

संतुलित हों:

जीवन के कार्य करते वक़्त संतुलित रहें। किसी भी कार्य में अति ना करें। हमें जीवन यापन करने के लिए, काम करना पड़ता है , रिश्ते भी निभाने होते हैं, समाज के अन्य कार्य करने पड़ते हैं, परिवार का काम करते हैं, खाते हैं, खरीदारी करते हैं या टेलीविजन देखते हैं, लेकिन किसी भी मामले में अति , जीवन के हर पहलू को नष्ट कर देती है। एक कार्य में की गई अति दूसरे कार्य को नुक़सान पहुँचा सकती है अतः संतुलन के महत्व को समझे।

 

आप जितना कमाते हैं उससे कम खर्च करें, भोजन पर ध्यान दें और टीवी कम देखें, ऐसा करने से आप तनाव से दूर रहकर शारीरिक रूप से स्वस्थ रह पायेंगे और कामयाबी की तरफ़ वही बढ़ सकते हैं जिनका शरीर साथ देता है। खाने से लेकर व्यायाम तक जीवन में संतुलन बनाए रखें।

अपने जीवन के मालिक स्वयं बनें:

अन्य लोगों की अपेक्षाओं और मूल्यों का उपयोग करना आसान लग सकता है, लेकिन ऐसा करने से आप जीवन में कभी संतुष्ट नहीं होंगे। विशेषज्ञों का कहना है कि केवल एक चीज जो आप दूसरों की मदद करने के लिए कर सकते हैं वह यह है कि आप जिस तरह से चाहते हैं अपने जीवन को जीएं। दूसरे लोगों की अपेक्षाओं पर ध्यान न दें और दूसरे लोगों की अपेक्षाओं का ध्यान रखने की कोशिश न करें, आपको अपने से बड़े होने का अवसर नहीं मिलेगा।

हमेशा सफलता पर ध्यान दें, असफलता पर नहीं:

जीवन एक यात्रा है, गंतव्य नहीं, प्रत्येक गुजरते दिन के साथ आपको अपने अस्तित्व के लिए कुछ करना होगा, इसलिए परिणामों पर ध्यान न दें जब कुछ गलत हो जाता है, क्योंकि जब आप परिणामों के बारे में सोचते हैं इसलिए हमेशा नकारात्मक सोच रहेगी, याद रखें जीवन सही नहीं है, इसलिए सफलता और असफलता दोनों का सामना करना पड़ता है और आपको खुली बाहों के साथ उनके लिए तैयार रहना चाहिए।

दूसरों को उनकी उम्मीदों के अनुसार लगता है:

अगर आप अपने प्रियजनों का इलाज करना चाहते हैं, तो आप कठिनाइयों का सामना कर सकते हैं। इसके बजाय, उनके साथ वैसा ही व्यवहार करें, जैसा वे इलाज करना चाहते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप कॉल करना पसंद नहीं करते हैं, तो आप एक दोस्त या किसी प्रियजन को कॉल नहीं करेंगे, यह सोचकर कि वह आपके जैसा ही सोच रहा है, लेकिन ऐसा नहीं होता है। दूसरों की जरूरतों के प्रति संवेदनशील होने की कोशिश करें, अपने दिल को बड़ा करें और दूसरों के साथ कुछ अच्छा करने की आदत डालें।

वर्तमान में जियें:

लाइफ़ में सफल होना है तो वर्तमान में जीना होगा। अतीत में क्या हुआ या भविष्य में क्या होने जा रहा है, इसके बारे में सोचना बंद करो, इसकी चिंता मत करो। वर्तमान में आप जिस स्थिति में हैं, उस पर ध्यान दें और उसे सुधारने की कोशिश करें।सोच को सकारात्मक बनाएं। व्यक्ति वही बन जाता है जो वह सोचता है ।

आप वही बन जाते हैं जिसके बारे में आप दिन भर सोचते हैं, यदि आपके विचार नकारात्मक हैं तो आपको जीवन में कुछ अधिक की उम्मीद नहीं करनी चाहिए, जीवन या परिस्थितियों के बारे में नकारात्मक सोच भी असफलता का कारण बन सकती है। एक बार जब आप अपनी सोच को सकारात्मक बनाने का अभ्यास तो कर के देखिए आप इसके जादू से चकित हो जाएंगे।

नई चीजें सीखते रहें:

सबसे दिलचस्प लोग वे हैं जो जीवन में रुचि रखते हैं और एक खोल में बंद नहीं रहते हैं, वे सीखने के अवसरों की खोज करते हैं और अपने व्यक्तित्व को व्यक्तिगत और पेशेवर रूप से परिष्कृत करते हैं, सीखने की प्रक्रिया जीवन भर जारी रहनी चाहिए। कोई भी उम्र आपको कुछ नया सीखने से नहीं रोकती है।

धैर्य का उपयोग करें, जल्दबाजी ना करें:

बेशक, कुछ भी तुरंत नहीं किया जा सकता है या हर कोई एक महत्वपूर्ण बैठक के लिए जल्दी में है, लेकिन यह भी महत्वपूर्ण है कि निराशा की भावना को आप पर हावी न होने दें। यात्रा में देरी, लोगों की अक्षमता या किसी अन्य कारण से बाधाएं आपके नियंत्रण में नहीं हैं, लेकिन इन मुद्दों पर अधीर प्रतिक्रिया का कोई फायदा नहीं है।

 

चिंता और अधीरता से तनाव हो सकता है, जिससे कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, चिड़चिड़ापन, उच्च रक्तचाप, हृदय पर तनाव और रिश्तों में गिरावट हो सकती है। इसलिए अपने नियंत्रण से परे कठिनाइयों पर धैर्यपूर्वक काम करना सीखें और यह सोचने के लिए कुछ समय लें कि इसे कैसे सुधारें या गहरी साँस लें।

जोखिम भरे निर्णय लेते समय घबराएं नहीं:

उन सैकड़ों लोगों का विश्लेषण जिन्होंने सफलता हासिल की है, यह स्पष्ट है कि उन सभी में एक चीज समान है और वह यह है कि वे निर्णय लेने में संकोच नहीं करते हैं। जैसा कि कहा जाता है, निर्णय ना लेने से गलत निर्णय लेना बेहतर है।

 

अतः आत्मविश्वास के साथ निर्णय लें।निर्णय ना लेने या निर्णय को टालते रहने से आप कभी आगे नही बढ़ पायेंगे जहाँ है वही खड़े खड़े लोगों को आगे बढ़ते हुए देखते रह जाएगें। हिम्मत करें और बिना डरे निर्णय लें।

चुनाव करते समय बुद्धिमानी का प्रयोग करें:

जीवान में सफल कैसे हों

3 चीजें हैं जो आपके जीवन को बदल सकती हैं और वह है दोस्त, किताबें और आपके विचार। इसलिए अपनी पसंद समझदारी से बनाएं और अच्छे दोस्तों और किताबों को तरजीह दें जो विचारों को सकारात्मक बनाने में मदद करें।आपने सुना ही होगा की दोस्त किताब , रास्ता और सोच अगर ग़लत हो तो गुमराह कर देते हैं और सही हों तो जीवन बना देते हैं।लाइफ़ में सफल होने के लिए इनका चुनाव बुद्धिमत्ता से करें।

हर समय शिकायत ही ना करते रहें:

कोई भी व्यक्ति उस व्यक्ति को पसंद नहीं करता है जो हर समय शिकायत करता है, यदि आप अपने चारों ओर देखते हैं तो ऐसे कई लोग दिखाई देंगे जो अभी भी परेशानी में हैं लेकिन बहुत अच्छा कर रहे हैं। अपनी समस्याओं के लिए दूसरों को दोष न दें, औचित्य से बचें और बहुत अधिक संवेदनशीलता से बचें, हर समय कोई भी नाटक पसंद नहीं करता है।

 

कुछ लोग हर बात के लिए, अपनी हर असफलता के लिए दूसरों की दोषी ठहराते रहते हैं जबकि कमी ख़ुद के अंदर होती है। आपकी असफलता के कारण सिर्फ़ और सिर्फ़ आप होते हैं कोई दूसरा कभी नही होता। सूर्य के उगने पर भी कितने ही लोगों के जीवन में अंधेरा ही रहता है, क्योंकि वे सोते रहते हैंइसमें सूरज का क्या दोष?

जागिए , आँखे खोलिए और अपने जीवन के अंधेरे के लिए सूरज को दोष देना बंद कीजिए।जिस दिन आप ऐसा कर देंगे उस दिन सफलता की ओर आपका पहला कदम उठ चुका होगा। उठिए और सफल हो जाइए। सफलता आपका इंतज़ार कर रही है।

आभारी होना सीखें:

ईश्वर ने बहुत से आशीर्वाद दिए हैं जिनके लिए हम सभी का कर्तव्य है कि हम धन्यवाद दें, लेकिन हम इसके बारे में सोचते भी नहीं हैं। हालांकि, जब भी आप निराश महसूस करते हैं, तो अपने चारों ओर देखें और आपके पास मौजूद चीजों को देखें। काम आता है, खुशी देता है या जिसके बिना जीवन की अवधारणा अधूरी लगती है, तो कृतज्ञता अपने आप उठने लगती है।

 

अपने लिए सोचें, बिना हाथों या पैरों के बिना जीवन कैसा होगा? जो लोग धन्यवाद देने की आदत में पड़ जाते हैं उन्हें भी जीवन की एक अच्छी उम्मीद होती है। आप इसके लिए किसी भी विधि का उपयोग कर सकते हैं या कम से कम अपने दिमाग में आप जीवन में मिली चीजों के लिए आभारी हैं।

जीतने का जज़्बा रखें:

ज्यादातर लोग एक अच्छी शुरुआत करते हैं लेकिन खत्म करने में असफल रहते हैं, लोग हार के शुरुआती संकेतों को देखते हुए हार मानने के आदी होते हैं। इसलिए कभी भी रुकें नहीं जब तक कि आपका लक्ष्य हासिल न हो जाए, ज्यादातर सफल लोगों में अपनी असफलताओं का सामना करने और उन्हें दूर करने की क्षमता होती है।

 

 

दोस्तोंलाईफ में सफल होना बहुत ही आसान है बस ज़रूरत है तो कुछ बातें सीखने की, कुछ आदतें छोड़ने की और कुछ आदतें जोड़ने की। अगर आप ईमानदारी से ऊपर लिखे हुए नियमों का पालन करते हैं , जो की आपको करना ही चाहिए अगर आप लाईफ में सफल होना चाहते हैं तो मेरा यक़ीन मानिए आपको लाईफ में सफल होने से कोई नही रोक सकता कोई भी नही।एक ईमानदार कोशिश आज से ही कर के तो देखिए।आपका यह साइबर दोस्त आपकी मदद के लिए हमेशा आपके साथ खड़ा है।

उपयोगी जानकारी शेयर करके आगे जरूर पहुंचाए

6 Comments

  1. […] यह भी पढें:  लाईफ में सफल होने के लिए क्या करें | WHAT TO D… […]

  2. […] यह भी पढें :   लाईफ में सफल होने के लिए क्या करें | WHAT TO D… […]

  3. […] , आप भी अपने dreams को follow कर सकती हो , आप भी एक successful इंसान बन सकती हो , और आप अपनी limitations खुद […]

  4. […] लाईफ में सफल होने के लिए क्या करें […]

  5. […] करे , जिससे आपको success हासिल हो सकती है – लाईफ में सफल होने के लिए क्या करें | motivational story for student in […]

  6. […] लाईफ में सफल होने के लिए क्या करें […]

Leave a Reply