Management quota से MBBS में admission कैसे लें?

Management Quota से MBBS में दाख़िला कैसे लें?

Management Quota से MBBS में दाख़िला लेने के बारे में हिंदी भाषा में जानकारी ना के बराबर है। मैं आपको इस विषय में विस्तार से और सरल भाषा में बताऊँगा।बाज़ार में बहुत सारे कन्सल्टंट बैठे हैं। वह आपको नए नए सब्ज़बाग़ दिखायेंगे और पैसोंकि ठगी के सिवाय कुछ नही करेंगे। अगर आप भी मैनेजमेंट कोटा से दाख़िला लेना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें ही सकता है आपको लाखों की बचत हो जाए।

 

अब हम यह जानते हैं की MBBS में Management Quota के द्वारा दाख़िला कैसे लें?

 

सबसे पहले तो यह जान लें की Management Quota सिर्फ़ निजी कोलेज में ही होता है। यानी सरकारी कोलेज में कोटा नही होता।

 

किसी भी Private Medical Collage में दाखिले के लिए सर्व प्रथम आपको NEET-UG प्रवेश परीक्षा पास करनी होगी। बिना NEET-UG परीक्षा पास किए अब मेडिकल कोलेज में दाख़िला नही मिलता है चाहे वह सीधे दाख़िला हो या प्रबंधक कोटा से हो।

 

एक बात और ध्यान रखें की वर्ष पिछले कुछ वर्षों से Direct Admission जैसी कोई चीज नही है यानी आप सीधे किसी भी निजी मेडिकल कोलेज में दाखिला नही ले सकते। इसके लिए आपको centralized counseling procedures में भाग लेना ही होगा।आप बिना counseling में भाग लिए सरकारी या निजी मेडिकल कोलेज में दाख़िला नही ले सकते बेशक वह प्रबंधक कोटा से ही क्यों ना हो।

 

अब आपको Management Quota के द्वारा MBBS में दाख़िला लेने का एक सामान्य तरीक़ा बताते हैं। कुछ राज्य में यह थोड़ा भिन्न हो सकता है लेकिन ज़्यादातर राज्यों में यह प्रक्रिया एक जैसी ही होती है।

एम॰बी॰बी॰एस॰ में प्रबंधक कोटा से दाख़िला के चरण। Steps For Admission in MBBS Through Management Quota:

how to take admission in MBBS through management quota

 

  • NEET-UG परीक्षा पास करना।
  • वो राज्य चुनें जहाँ आपको दाख़िला लेना है।
  • जो राज्य चुना है उसमें Counseling के लिए Register करें। उदाहरण के लिए अगर आप उत्तर प्रदेश में दाख़िला लेना चाहते हैं तो UP NEET की वेबसाइट पर जा कर Counseling के लिए रेजिस्टर करें।
  • कुछ राज्य रेजिस्ट्रेशन फ़ीस भी माँगते है जो बाद में वापस (Refund)कर दी जाती है।
  • इसके बाद आपको दस्तावेज़ सत्यापित कराने होते हैं।
  • इसके बाद आपको Collage Choice भरनी होती है। यानी अपनी पसंद का कोलेज चुन कर भरना है।
  • इसके बाद काउन्सलिंग के दो राउंड होते हैं। यदि इन दोनो राउंड में आपको सीट आबँटित नही होती है तो एक MOP UP राउंड होता है जिसमें सभी ख़ाली सीट भरी जाती हैं।आप MOP UP Round में हिस्सा ले सकते हैं।

 आपको करना क्या है की काउन्सलिंग में रजिस्टर करते ही अपनी पसंद के कोलेज में सीधे जाकर बात करनी चाहिए और फ़ीस आदि ख़र्चों की जानकारी विस्तार से और लिखित में ले लेनी चाहिए।

प्रबंधक कोटा से कोलेज को चुनते वक़्त क्या ध्यान में रखें: How to Select a College for MBBS Admission Through Management Quota in hindi:

यह भी पढें: छोटे प्रेरक प्रसंग|6 प्रेरणादायक लघु कहानियाँ|Short Motivational Stories

देखिए निजी कोलेज में मेडिकल की पढ़ाई बहुत ही खर्चीली है।इसके लिए आपको बहुत अधिक पैसा खर्च करना होता है और आप डॉक्टर बनकर मरीज़ों का उपचार करेंगे 

इसलिए कहाँ से पढ़ें यह फ़ैसला बहुत सोच समझकर लेना चाहिए। आपको कोलेज चुनते वक्त बहुत सावधान रहना होगा ताकि बहुत पैसे खर्च करके आप जब डॉक्टर बनते हैं तो एक बेहतर डॉक्टर बनकर ही कोलेज से बाहर निकलें।सही कोलेज का चुनाव आपके सम्पूर्ण कैरियर को प्रभावित करता है।

 

आपकी सहायता के लिए नीचे कुछ सुझाव दिए जा रहे हैं जिनके आधार पर आप अपने कोलेज का चुनाव कर सकते हैं:

 

यह अच्छी तरह से जाँच ले की कोलेज एम॰सी॰आई॰ से मान्यता प्राप्त (MCI Recognize)है। आप जिस सेसन के लिए दाख़िला ले रहे हैं उस सेसन के लिए कोलेज के पास मान्यता है या नही। इसके लिए आप मान्यता सम्बंधी दस्तावेज़ कोलेज से भी माँग सकते हैं, कोलेज की वेब साइट पर भी मान्यता से सम्बंधित पत्र मौजूद होगा। लेकिन सबसे बेहतर और प्रामाणिक तरीक़ा यह है की आप MCI की वेब साइट से जाँच लें की कोलेज को मान्यता है या नही।यह भी देखें की कोलेज की मान्यता तो समाप्त नही हो गई है।

 

वहाँ पर पढ़ाने वाला स्टाफ़ ( faculties) कैसा है और कितना है।बेहतर और पर्याप्त पढ़ाने वाले ही नही होंगे तो आप बेहतर डॉक्टर कैसे बनेंगे।

 

मरीज़ कितनी संख्या में आते हैं।अगर मरीज़ ही नही आते होंगे तो अनुभव कहाँ से मिलेगा। अतः यह जानना अति आवश्यक है की मरीज़ों की संख्या कितनी है।

 

नवीन चिकित्सीय यंत्र ( latest medical equipments) की उपलब्धता। तेज़ी से बदलती हुई इलाज की तकनीक के कारण आधुनिक चिकित्सा यंत्र का होना बहुत ही ज़रूरी है।

 

कोलेज की लोकेशन और यातायात की सुविधा।आसानी से कोलेज तक पहुँचने के लिए यातायात के साधन उपलब्ध होना भी ज़रूरी है। कोलेज कहीं शहर से बहुत दूर तो स्थित नही है यह भी अच्छे से जान लें।

 

अंत में सबसे ज़रूरी बात ध्यान में रखनी है की कोई छुपा हुआ खर्च (hidden cost) तो नहीं है जो बाद में अलग अलग नाम से माँग लिया जाता है और आप देने को मजबूर हो जाते हैं।दाख़िले के समय पर स्पष्ट रूप से सारे खर्चे अवश्य पूछ कर लिख लें।

एम॰बी॰बी॰एस॰ में दाख़िले के लिए कौन कौन से दस्तावेज जमा कराने होंगे: List of Documents To Submit For MBBS Admission

आवेदक को काउन्सलिंग प्रक्रिया के लिए निम्नलिखित दस्तावेज तैयार रखने चाहिएँ:

 

·  बारहवीं का अंक पत्र

·  बारहवीं का प्रमाणपत्र

·  दसवीं का अंक पत्र

·  हतांतरण प्रमाणपत्र (T.C.)

·  चरित्र प्रमाण पत्र

·  माईग्रेसन प्रमाणपत्र

·  NEET स्कोरकार्ड

·  जाति प्रमाणपत्र

·  आय प्रमाणपत्र (जहाँ लागू हो)

·  आधार कार्ड

 

·  चार पासपोर्ट आकार की फ़ोटो

प्रबंधक कोटा से एम॰बी॰बी॰एस॰ में दाख़िले को लेकर अक्सर पूछे जाने वाले सवाल: FAQ’s About MBBS Admission Through Management Quota:

प्रश्न : क्या प्रबंधक कोटा में दाख़िले के लिए NEET पास करना ज़रूरी है?

उत्तर : हाँआपको दाख़िले के लिए NEET पास करना ज़रूरी है।

 

प्रश्न : क्या मुझे दाख़िले के लिए कोई डोनेशन देना होगा?

उत्तर : नहीआपको दाख़िले के लिए किसी भी तरह का कोई भी डोनेशन नही देना होगा।

 

प्रश्न : क्या ट्यूशन फ़ीस के अलावा भी कुछ अन्य खर्चे देने होंगे?

उत्तर : हाँआपको हॉस्टलमेसयातायात आदि के खर्चे अलग से देने होंगे।

 

 

अब तक आप समझ चुके होंगे की Management Quota  के  द्वारा  दाख़िला  कैसे  लेना  है।  सबसे मुख्य बात यह है की बाज़ार में बैठे किसी भी कंसलटेंट के चक्कर में ना पड़कर आप सीधे कोलेज में सम्पर्क बात करें। आप पायेंगे कि आपने लाखों रुपए बचा लिए जो मिडिएटर अपनी जेब में ले जाते।

उपयोगी जानकारी शेयर करके आगे जरूर पहुंचाए

Leave a Reply